Ghazal Shayari

और कुछ तेज़ चलीं अब के हवाएँ शायद

  •  
  •  
  •  

कहीं से कोई हर्फ़-ए-मोतबर

  •  
  •  
  •